राजा दाऊद और मसीह आन सांग होंग

राजा दाऊद और मसीह आन सांग होंग

अंत के दिनों में दाऊद को खोजो

बाइबल गहरी और रहस्यमय शृंखलाओं की पुस्तक है। उनमें से, आइए हम दाऊद के जीवन में छिपे हुए रहस्य के द्वारा दूसरी बार आने वाले मसीह के बारे में पढ़ें।

हो 3:5 उसके बाद वे अपने परमेश्वर यहोवा और अपने राजा दाऊद को फिर ढूंढ़ने लगेंगे, और अन्त के दिनों में यहोवा के पास, और उसकी उत्तम वस्तुओं के लिए थरथराते हुए आएंगे।

परमेश्वर की आशीष पाने का अर्थ है उद्धार पाना। और यहां “अंत के दिन” इन दिनों को दर्शाता है, इसलिए यह इस युग में पूरी होने वाली भविष्यवाणी है। तब दाऊद कौन है जिसकी उपासना हमें इन अंत के दिनों में करनी चाहिए? यहां पर, दाऊद इस्राएल का दूसरा राजा नहीं है, पर भविष्यसूचक दाऊद है जो अंत के दिनों में प्रगट होगा।

यीशु भविष्यसूचक दाऊद हैं

यश 9:6–7 क्योंकि हमारे लिए एक बालक उत्पन्न हुआ, हमें एक पुत्र दिया गया है; और प्रभुता उसके कांधे पर होगी, और उसका नाम अद्भुत युक्ति करनेवाला पराक्रमी परमेश्वर, अनन्तकाल का पिता, और शान्ति का राजकुमार रखा जाएगा। उसकी प्रभुता सर्वदा बढ़ती रहेगी, और उसकी शान्ति का अन्त न होगा, इसलिए वह उसको दाऊद की राजगद्दी पर इस समय से लेकर सर्वदा के लिए न्याय और धर्म के द्वारा स्थिर किए और सम्भाले रहेगा…

यह भविष्यवाणी नए नियम में यीशु के द्वारा पूरी की गई। आइए हम इसकी पुष्टि करें।

लूक 1:31–32 देख, तू गर्भवती होगी, और तेरे एक पुत्र उत्पन्न होगा; तू उसका नाम यीशु रखना। वह महान् होगा और परमप्रधान का पुत्र कहलाएगा; और प्रभु परमेश्वर उसके पिता दाऊद का सिंहासन उसको देगा…

यीशु राजा दाऊद की भविष्यवाणी के अनुसार इस पृथ्वी पर आए।

पुराने नियम में शारीरिक दाऊद, और नए नियम में आत्मिक दाऊद

आपको क्या लगता है कि बाइबल ने क्यों राजा दाऊद से तुलना करते हुए यीशु के बारे में भविष्यवाणी की? वह दाऊद के कार्य के द्वारा यीशु के कार्य को हमें बताने के लिए है।

2शम 5:4 दाऊद तीस वर्ष का होकर राज्य करने लगा, और चालीस वर्ष तक राज्य करता रहा।

दाऊद तीस वर्ष का होकर अभिषिक्त किया गया और राजा बना। उसने 40 वर्ष तक राज्य किया। आइए हम देखें कि भविष्यसूचक दाऊद यीशु ने भविष्यवाणी को कैसे पूरा किया।

लूक 3:21–23 जब सब लोगों ने बपतिस्मा लिया और यीशु भी बपतिस्मा लेकर… जब यीशु आप उपदेश करने लगा, तो लगभग तीस वर्ष की आयु का था।

यीशु ने किस आयु में बपतिस्मा लिया? 30 वर्ष की आयु में। राजा दाऊद के समान, भविष्यसूचक दाऊद यीशु ने 30 वर्ष की आयु में बपतिस्मा लिया और अपने सुसमाचार के कार्य को शुरू किया। तब, यीशु को कब तक सुसमाचार का प्रचार करना चाहिए? यीशु को दाऊद का शासनकाल, 40 वर्षों तक सुसमाचार का प्रचार करना चाहिए।

हालांकि, यीशु ने अपने पहली बार आते समय सिर्फ तीन वर्षों तक सुसमाचार का प्रचार किया(लूक 13:6) तब शेष 37 वर्षों के बारे में क्या? उस भविष्यवाणी को पूरा करने के लिए, यीशु को दूसरी बार प्रकट होने की जरूरत है।

इब्र 9:28 जो लोग उसकी बाट जोहते हैं उनके उद्धार के लिए दूसरी बार बिना पाप उठाए हुए दिखाई देगा।

दूसरी बार आने वाले यीशु को भविष्यवाणी के अनुसार कितने समय तक सुसमाचार का प्रचार करना चाहिए? दाऊद की राजगद्दी की भविष्यवाणी को पूरा करने के लिए जिसे पहली बार आने वाले यीशु ने पूरा नहीं किया, उन्हें 37 वर्षों तक सुसमाचार का प्रचार करना चाहिए। दूसरी बार प्रगट होने का उद्देश्य क्या है? वह उद्धार देने के लिए है। इसका मतलब है कि जब तक मसीह इस पृथ्वी पर दूसरी बार न आएं, तब तक कोई भी उद्धार नहीं पाएगा। इसी कारण नबी होशे ने कहा कि वे जो अंत के दिनों में दाऊद की उपासना करते हैं, परमेश्वर की आशीष पाएंगे(हो 3:5)। तब, यीशु किस रूप में फिर से आएंगे? 2,000 वर्ष पहले, यीशु जो दाऊद की राजगद्दी पर बैठे शरीर में आए थे। इसलिए दूसरी बार आने वाले यीशु भी जिन्हें दाऊद की राजगद्दी की भविष्यवाणी को पूरा करना चाहिए शरीर में आएंगे।

आत्मिक दाऊद का चिन्ह

हम दूसरी बार आने वाले यीशु को जो शरीर में आएंगे कैसे पहचान सकते हैं?

यश 55:3 कान लगाओ, और मेरे पास आओ; सुनो, तब तुम जीवित रहोगे; और मैं तुम्हारे साथ सदा की वाचा बांधूंगा, अर्थात् दाऊद पर की अटल करुणा की वाचा।

परमेश्वर ने कहा कि वह हमारी आत्माओं को बचाने के लिए सदा की वाचा को स्थापित करेंगे। सदा की वाचा दाऊद के संग की गई। चूंकि सदा की वाचा केवल दाऊद के साथ की गई है, भविष्यसूचक दाऊद के पास चिन्ह, सदा की वाचा होनी चाहिए। तब आइए हम देखें कि सदा की वाचा क्या है।

इब्र 13:20 अब शान्तिदाता परमेश्वर, जो हमारे प्रभु यीशु को जो भेड़ों का महान् रखवाला है सनातान वाचा के लहू के गुण से मरे हुओं में से जिलाकर ले आया।

जैसे कि लिखा गया है कि सनातन वाचा का ‘लहू’, सदा की वाचा को अवश्य ही यीशु के लहू से स्थापित किया जाना चाहिए। दूसरे शब्दों में, वाचा जिसे यीशु ने अपने लहू से स्थापित किया, सदा की वाचा है। यीशु के लहू से स्थापित की गई वाचा को बाइबल क्या कहती है? वह नई वाचा का फसह है(लूक 22:20)। इसलिए पहली बार आने वाले यीशु ने, जो भविष्यसूचक दाऊद के रूप में आए, नई वाचा को स्थापित किया और उसका प्रचार किया। उसी तरह, दूसरी बार आने वाले यीशु को भी, जो भविष्यसूचक दाऊद के रूप में आने वाले हैं, नई वाचा को स्थापित करना चाहिए और उसका 37 वर्षों तक प्रचार करना चाहिए।

वह मसीह आन सांग होंग हैं जिन्होंने र्निबयों की भविष्यवाणियों को पूरा किया। र्भिवष्यसूचक दाऊद मसीह आन सांग होंग ने 1918 में जन्म लिया। वर्ष 1948, उनके 30 वर्ष की आयु में, अंजीर के पेड़ की भविष्यवाणी के अनुसार उन्होंने बपतिस्मा लिया। उन्होंने र्भिवष्यसूचक राजा दाऊद के रूप में अपने 30 वर्ष की आयु में सुसमाचार का कार्य शुरू किया। वर्ष 1985, 37 वें वर्ष में, वह स्वर्ग में गए। ठीक 37 वर्षों तक, उन्होंने नई वाचा के फसह का प्रचार किया जो दाऊद का चिन्ह है। मसीह आन सांग होंग ने अपनी मृत्यु के चार वर्ष पहले बताया कि वह 37 वर्षों तक प्रचार करने के बाद मर जाएंगे। निम्नलिखित “साप्ताहिक धर्म पत्रिका” में एक लेख था(18 मार्च, 1981)।

–एक अज्ञात नया धर्म–

“चर्च ऑफ गॉड विश्वास करता है कि दूसरी बार आने वाले मसीह को इस युग में आना चाहिए और आंख, नाक और कान के साथ शरीर में प्रकट होना चाहिए। चर्च ऑफ गॉड का कहना है: “यीशु को दूसरी बार इसलिए आना चाहिए क्योंकि नई वाचा जिसे उन्होंने पहली बार आते समय स्थापित की थी, अंधकार युग में मिटा दी गई। इसलिए परमेश्वर को स्वयं दूसरी बार आना चाहिए ताकि वह जीवन का सत्य नई वाचा फिर से स्थापित कर सकें और अपने लोगों को खोज सकें।” चर्च ऑफ गॉड का कहना है: “दूसरी बार आने वाले यीशु को पृथ्वी पर गुप्त रूप से आना चाहिए और 37 वर्ष तक सुसमाचार का प्रचार करने के बाद चले जाना चाहिए। दाऊद ने 40 वर्ष तक शासन किया, पर यीशु को सिर्फ 3 वर्ष तक प्रचार करने के बाद क्रूस पर चढ़ाया गया। इसलिए 40 वर्ष का शासन पूरा करने के लिए यीशु को 37 वर्ष तक सुसमाचार का प्रचार करना चाहिए।”

क्या मनुष्य पहले से पता कर सकता है कि वह कब जन्म लेगा और कब मर जाएगा? हालांकि, मसीह आन सांग होंग बाइबल की भविष्यवाणी के अनुसार आए, और उन्होंने अपनी मृत्यु के 4 वर्ष पहले बताया कि वह दाऊद की राजगद्दी को पूरा करने के बाद मर जाएंगे।

मसीह आन सांग होंग दूसरी बार आने वाले मसीह हैं जिनके बारे में बाइबल गवाही देती है, और वह राजा दाऊद हैं जिसे हमें अंत के दिनों में ढूंढ़ना चाहिए। आइए हम आत्मिक दाऊद मसीह आन सांग होंग पर विश्वास करें और उद्धार पाएं।