यीशु का दूसरा आगमन और अंतिम न्याय

विचार का अंतर्विरोध कि दूसरा आगमन अंतिम न्याय है

आज बहुत से ईसाई लोग सोचते हैं कि वह दिन जब यीशु का दूसरा आगमन होगा, न्याय का दिन होगा। इसका अर्थ है कि जब यीशु दूसरी बार आएंगे, तब तुरन्त संसार नष्ट किया जाएगा और संत जो बचाए गए हैं, स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करेंगे। क्या बाइबल भी इसी तरह कहती है? पहले, आइए हम यीशु का वचन देखें।

मैं तुम से कहता हूं, वह तुरन्त उनका न्याय चुकाएगा। तौभी मनुष्य का पुत्र जब आएगा, तो क्या वह पृथ्वी पर विश्वास पाएगा?

लूक 18:8

“क्या वह पृथ्वी पर विश्वास पाएगा?” क्या इसका मतलब यह है कि विश्वास होगा? नहीं, विश्वास नहीं होगा। इस पर जोर देने के लिए, कि वह पृथ्वी पर विश्वास नहीं पाएंगे, उन्होंने कहा, “क्या वह पृथ्वी पर विश्वास पाएगा?” उद्धार विश्वास करने से दिया जाता है। यदि यीशु इस पृथ्वी पर अंतिम न्यायी की तरह आएं जहां विश्वास न हो, तो हम कैसे बचाए जा सकेंगे? कोई भी उद्धार नहीं पा सकता।

यदि कोई भी बच नहीं सकता, तब इस युग में हमारे परमेश्वर पर विश्वास करने का क्या मतलब होगा? इसलिए वह विचार निश्चित रूप से गलत है कि जैसे ही यीशु का दूसरा आगमन होता है, तुरन्त दुनिया का न्याय किया जाएगा। पृथ्वी पर जहां विश्वास नहीं होगा, यीशु दूसरी बार आकर अंतिम दिन में बचाए जाने वाले संतों को विश्वास दिलाएंगे, इसके बाद वह दुनिया का न्याय करेंगे। तब ही बाइबल में परमेश्वर का वचन पूरा हो सकता है।

न्याय के दिन यीशु का रूप और उनका कार्य

क्योंकि देखो, यहोवा आग के साथ आएगा, और उसके रथ बवण्डर के समान होंगे, जिससे वह अपने क्रोध को जलजलाहट के साथ और अपनी चितौनी को भस्म करनेवाली आग की लपट में प्रगट करे। क्योंकि यहोवा सब प्राणियों का न्याय आग से और अपनी तलवार से करेगा; और यहोवा के मारे हुए बहुत होंगे।

यश 66:15–16

यह वह दृश्य है जब यहोवा परमेश्वर अंतिम दिन न्यायी की तरह आएंगे। उनके आने के बारे में बाइबल क्या कहती है? कहा गया है कि वह आग के साथ आएंगे। उनके आने का अभिप्राय क्या है? लिखा है कि सब लोगों का न्याय किया जाएगा। नए नियम में भी ऐसी ही भविष्यवाणी है।

और तुम्हें, जो क्लेश पाते हो, हमारे साथ चैन दे; उस समय जब कि प्रभु यीशु अपने सामर्थी दूतों के साथ, धधकती हुई आग में स्वर्ग से प्रगट होगा, और जो परमेश्वर को नहीं पहचानते, और हमारे प्रभु यीशु के सुसमाचार को नहीं मानते उनसे पलटा लेगा। वे प्रभु के सामने से और उसकी शक्ति के तेज से दूर होकर अनन्त विनाश का दण्ड पाएंगे। यह उस दिन होगा, जब वह अपने पवित्र लोगों में महिमा पाने और सब विश्वास करनेवालों में आश्चर्य का कारण होने को आएगा; क्योंकि तुम ने हमारी गवाही पर विश्वास किया।

2थिस 1:7–10

यह भी वही दृश्य है जब यीशु अंतिम दिन न्यायी की तरह आएंगे। उस दिन यीशु कैसे प्रकट होंगे? कहा गया है कि वह धधकती हुई आग में प्रगट होंगे। उनके आने का अभिप्राय क्या है? लिखा है कि वह उन लोगों को दण्डित करेंगे, जो परमेश्वर को नहीं पहचानते और सुसमाचार को नहीं मानते।

दूसरे आगमन के समय यीशु का रूप और उनका कार्य

हालांकि, जब यीशु दूसरी बार आते हैं, वह अलग प्रकार से प्रगट होते हैं और आने का अभिप्राय भी अलग है।

तब मनुष्य के पुत्र का चिन्ह आकाश में दिखाई देगा, और तब पृथ्वी के सब कुलों के लोग छाती पीटेंगे; और मनुष्य के पुत्र को बड़ी सामर्थ और ऐश्वर्य के साथ आकाश के बादलों पर आते देखेंगे। वह तुरही के बड़े शब्द के साथ अपने दूतों को भेजेगा, और वे आकाश के इस छोर से उस छोर तक, चारों दिशाओं से उसके चुने हुओं को इकट्ठा करेंगे।

मत 24:30–31

यीशु ने स्वयं अपने दूसरे आगमन की भविष्यवाणी की(मत 24:3)। वह कैसे दूसरी बार आएंगे? वह आकाश के बादल पर आएंगे। और यीशु ने न्याय और दण्ड के बारे में कुछ नहीं कहा। उन्होंने सिर्फ कहा कि वह चारों दिशाओं से उनके चुने हुओं को इकट्ठा करेंगे।

वह अपने दूसरे आगमन के समय बादल पर आते हैं, परन्तु न्याय के दिन वह आग के साथ आते हैं। और वह अपने दूसरे आगमन के समय चारों दिशाओं से उनके चुने हुओं को इकट्ठा करते हैं, परन्तु न्याय के दिन वह दुष्ट लोगों को दण्डित करते हैं।

तब वे मनुष्य के पुत्र को सामर्थ और बड़ी महिमा के साथ बादल पर आते देखेंगे। जब ये बातें होने लगें, तो सीधे होकर अपने सिर ऊपर उठाना; क्योंकि तुम्हारा छुटकारा निकट होगा।

लूक 21:27–28

मत्ती अध्याय 24 के वचन के समान, यह यीशु के दूसरे आगमन की भविष्यवाणी है कि वह बादल पर आएंगे। क्या बाइबल कहती है कि जैसे ही दूसरी बार आने वाले मसीह आते हैं, परमेश्वर के लोग स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करते हैं? नहीं। कहा गया है कि “सीधे होकर अपने सिर ऊपर उठाना; क्योंकि तुम्हारा छुटकारा निकट होगा।” दूसरे शब्दों में, बाइबल हमसे कहती है कि उद्धार पाने के लिए तैयार रहो। इसलिए यीशु का दूसरा आगमन अंतिम न्याय का दिन नहीं है जिस दिन हम स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करेंगे।

सिय्योन जहां दूसरी बार आने वाले मसीह अपने चुने हुओं को इकट्ठा करते हैं

बाइबल की भविष्यवाणी के अनुसार यदि दूसरी बार आने वाले यीशु अपने चुने हुओं को इकट्ठा करने आएंगे, वह उन्हें कहां इकट्ठा करेंगे? वह सिय्योन है जहां परमेश्वर के पर्व मनाए जाते हैं(यश 33:20)।

अन्त के दिनों में ऐसा होगा कि यहोवा के भवन का पर्वत सब पहाड़ों पर दृढ़ किया जाएगा, और सब पहाड़ियों से अधिक ऊंचा किया जाएगा; और हर जाति के लोग धारा के समान उसकी ओर चलेंगे, और बहुत सी जातियों के लोग जाएंगे, और आपस में कहेंगे, “आओ, हम यहोवा के पर्वत पर चढ़कर, याकूब के परमेश्वर के भवन में जाएं; तब वह हम को अपने मार्ग सिखाएगा, और हम उसके पथों पर चलेंगे।” क्योंकि यहोवा की व्यवस्था सिय्योन से, और उसका वचन यरूशलेम से निकलेगा।

मी 4:1–2

यह हमारे युग की भविष्यवाणी है जब न्याय का दिन निकट है। अंत के दिनों में परमेश्वर के लोग यहोवा के भवन का पर्वत यानी सिय्योन में इकट्ठे होते हैं। यहोवा के भवन का पर्वत सिय्योन को दर्शाता है जहां परमेश्वर का भवन स्थापित हुआ है। और यह भी कहा गया है कि परमेश्वर सिय्योन में अपने मार्ग सिखाएंगे। यह भविष्यवाणी है कि दूसरी बार आने वाले यीशु, जो अंत के दिनों में प्रकट होंगे, सत्य के वचन के द्वारा अपने लोगों को विश्वास दिलाएंगे ताकि वे बचाए जा सकें।

यीशु के वचन के समान, “क्या वह पृथ्वी पर विश्वास पाएगा?” यीशु के दूसरी बार आने से पहले, ऐसा कोई नहीं होगा जिसके पास उद्धार पाने योग्य सिद्ध विश्वास हो। 2,000 साल पहले, पहली बार आने वाले यीशु के स्वर्ग जाने के बाद, शैतान ने जंगली बीज बोया और दानिय्येल की भविष्यवाणी के अनुसार, संसार अधर्म से भर गया(मत 13:24–43; दा 7:25)। बाइबल कहती है कि यीशु जगत में दूसरी बार आएंगे जहां विश्वास नहीं है, और परमेश्वर के लोगों को सिय्योन में इकट्ठा करेंगे और उद्धार के सत्य की ओर उनकी अगुवाई करेंगे।

आइए हम बाइबल की शिक्षाओं को सही ढंग से एहसास करें कि अंतिम न्याय और दूसरा आगमन अलग है, और अंत के दिनों में सिय्योन में आए दूसरी बार आने वाले मसीह को ग्रहण करें और बचाए जाएं।

Leave a Reply